Hindi Shayari : Teri Aawaj Tere Rup Ki Pahchan Hain

Hindi Shayari : Teri Aawaj Tere Rup Ki Pahchan Hain

Hindi Shayari
Hindi Shayari
तेरी आवाज़ तेरे रूप की पहचान है,
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है,
ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें,
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।
Teri Aawaj Tere Rup Ki Pahchan Hain,
Tere Dil Ki Dharkan Me Dil Ki Jan Hain,
Na Sunu Jis Din Teri Bate,
Lagta Hain Us Roj Ye Jism Bejan Hain.

एक पहचान हज़ारो दोस्त बना देती हैं,
एक मुस्कान हज़ारो गम भुला देती हैं,
ज़िंदगी के सफ़र मे संभाल कर चलना,
एक ग़लती हज़ारो सपने जला कर राख देती है।
Ek pahchan Hajaro Dost Bana Deti Hain,
Ek Muskan Hajaro Gum Bhula Deti Hain,
Jindagi Ke Safar Me Smbhal Kar Chalna,
Ek Galti Hajaro Sapne Jala Kar Rakh Kar Deti Hain.

आदमी जो सुनता है, आदमी जो कहता है,
ज़िंदगी भर वो सदाएँ पीछा करती हैं,
आदमी जो देता है, आदमी जो करता है,
रास्ते मे वो दुआएँ पीछा करती हैं।
Aadmi Jo Sunta Hain Aadmi Jo Kahta Hain,
Jindagi Bhar Wo Sadaye Pichha Karti Hain,
Aadmi Jo Deta Hain Aadmi Jo Karta Hain,
Raste Me Wo Duaaye Pichha Karti Hain.

No comments

Theme images by merrymoonmary. Powered by Blogger.